लघु उद्योग दिवस (30 अगस्त) # 30 August: Small Industry Day

लघु उद्योग दिवस (30 अगस्त): (30 August: Small Industry Day)

अंतर्राष्ट्रीय लघु उद्योग दिवस कब मनाया जाता है?When is International Small Industries Day celebrated?

हर वर्ष अगस्त माह की 30 तारीख को अंतर्राष्ट्रीय लघु उद्योग(International Small Industries Day) दिवस के रूप मे मनाया जाता है। अंतर्राष्ट्रीय लघु उद्योग दिवस (International Small Industries Day) को मनाने का प्रमुख उद्देश्य लघु उद्योगों को बढ़ावा देना और बेरोज़गारों को रोज़गार के अवसर प्रदान करना है । भारत(India) एक विकासशील देश है जहाँ आर्थिक विकास हेतु लघु उद्योगों की अत्यंत महत्त्वपूर्ण भूमिका है।

लघु उद्योग की परिभाषा (Definition of small scale industry)

लघु उद्योग (small scale industry) वह उद्योग हैं जो एक सूक्ष्म पैमाने पर अपनाए जाते हैं तथा सामान्य रूप से पिछड़े वर्ग जैसे मज़दूरों व श्रमिकों को सहायता प्रदान करने हेतु मुख्य व्यवसाय(business) के रूप में किर्यान्वित किए जाते हैं। जिन उद्योगों मे 10 से 50 लोग काम करते हैं और उसके बदले मज़दूरी लेते हो वे व्यवसाय लघु उद्योग(small scale industry) की श्रेणी मे आते हैं।सरकार द्वारा लघु उद्योग निवेश सीमा को कुछ समय के अंतराल के बाद बार बार बदला जाता है। लघु उद्योग(small scale industry) में बाहर से कच्चा माल मंगाया जाता है और तकनीकी (technical)कुशलता को भी बाहर से प्राप्त किया जा सकता है।

लघु उद्योगों के उद्देश्य (Objectives of small scale industries)

लघु उद्योगों का प्रमुख उद्देश्य भारत मे बेरोजगारी(unemployment) को ख़त्म कर रोजगार के अवसरों को प्रदान करना है।
लघु उद्योगों(small scale industry) का दूसरा प्रमुख उद्देश्य आर्थिक शक्ति का समान रूप से वितरण करना है। लघु उद्योगों के कारण आर्थिक सम्पन्नता (Financial prosperity)बलवंत होती है।
देश की सभ्यता एवं संस्कृति (Civilization and culture)लघु उद्योगों के माध्यम से सुरक्षित रहती है। क्योंकि अधिकतर लधु उद्योगों द्वारा कलात्मक एवं परम्परागत (Artistic and traditional)वस्तुओं को निर्माणित किया जाता है तथा ये उद्योग श्रम प्रधान तकनीक पर आधारित होते है।
लघु उद्योगों का मुख्य उद्देश्य है कि वे प्राकृतिक साधानों का अनुकूलतम उपयोग(Optimum Use of Natural Solutions) करें।
मानवीय मूल्यों की दृष्टि से ‘सादा जीवन उच्च विचार’ simple living, high thinking की भावना का सृजन करें।
आम जनता को श्रेष्ठ वस्तुएं (Best things)उपलब्ध कराना इनका मुख्य उद्देश्य है।
भारतीय अर्थव्यवस्था में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हुए इनका उद्देश्य अधिक से अधिक श्रेष्ठ उत्पादन करना है।

भारतीय अर्थव्यवस्था में उद्योग का योगदान (Contribution of industry to Indian economy)

लघु उद्योग एवं कुटीर उद्योग (Small scale industries and cottage industries)का भारतीय अर्थव्यवस्था में अत्यंत महत्त्वपूर्ण स्थान रहा है। भारत के लघु व कुटीर उद्योगों में उत्तम गुणवत्ता वाली वस्तुओं का उत्पादन प्राचीन काल (Ancient Period)से ही होता रहा है। स्वतंत्रता के पश्चात इसका अत्यधिक तीव्र गति से विकास हुआ है।

लघु उद्योग मंत्रालय(Ministry of Small Scale Industries)

भारत में लघु उद्योगों की वृद्धि और विकास के लिए ‘लघु उद्योग मंत्रालय’नोडल(Nodal Agency) एजेंसी के रूप में कार्य करता है। लघु उद्योगों का बढ़ावा देने के लिए मंत्रालय अनेक नीतियाँ बनाती है और उन्‍हें क्रियान्वित करती है । इसकी सहायता विभिन्न सार्वजनिक क्षेत्र के उद्यम करते हैं, जैसे:-

‘लघु उद्योग विकास संगठन’ (SIDO) अपनी नीति का निर्माण करने और कार्यान्‍वयन का पर्यवेक्षण करने, कार्यक्रम, परियोजना, योजनाएँ बनाने में सरकार(Government) को सहायता करने वाला शीर्ष निकाय है।
‘राष्ट्रीय लघु उद्योग निगम लिमिटेड’ (NSIC) की स्‍थापना ‘भारत सरकार(India Govt)’ द्वारा देश में लघु उद्योगों का संवर्धन, सहायता और पोषण करने की दृष्टि से की गई थी, जिसका संकेन्‍द्रण उनके कार्यों के वाणिज्यिक पहलुओं पर था।
मंत्रालय ने तीन राष्‍ट्रीय उद्यम विकास संस्‍थानों (National Enterprise Development Institutes)की स्‍थापना की है, जो प्रशिक्षण केन्द्र, उपक्रम अनुसंधान और लघु उद्योग के क्षेत्र में उद्यम विकास के लिए प्रशिक्षण और परामर्श सेवाएं में लगे हुए हैं। ये इस प्रकार हैं:-
हैदराबाद में ‘राष्‍ट्रीय लघु उद्योग विस्‍तार प्रशिक्षण संस्‍थान’ ( NISIET)
नोएडा में ‘राष्‍ट्रीय उद्यम एवं लघु व्यवसाय विकास संस्‍थान’ ( NIESBUD)
गुवाहाटी में ‘भारतीय उद्यम संस्‍थान’ (IIE)

लघु उद्योग दिवस से सम्बंधित कुछ सामान्य प्रश्नोत्तर

प्रश्न : लघु उद्योग दिवस’ कब मनाया जाता है ?
उत्तर प्रत्येक वर्ष ’30 अगस्त

प्रश्न लघु उद्योग दिवस का प्रमुख उद्देश्य क्या है ?
उत्तर लघु उद्योगों को बढ़ावा देना तथा रोज़गार के अवसर उपलब्ध कराना।

प्रश्न ऐसी इकाई, जहाँ संयंत्र और मशीनरी में निवेश लघु उद्योग की सीमा से अधिक किंतु 10 करोड़ रुपये तक हो ?
उत्तर मझौला उद्यम कहलाता है

प्रश्न लघु उद्योगों को कितने भागो मे वर्गीकृत किया गया है ?
उत्तर लघु उद्योगों का वर्गीकरण तीन प्रकार उद्योगों में किया है- 1. सूक्ष्म उद्योग 2. लघु उद्योग 3. मध्यम उद्योग

प्रश्न सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग दिवस कब मनाया जाता है ?
उत्तर 27 जून

प्रश्न भारत में लघु उद्योगों की वृद्धि और विकास के लिए नोडल एजेंसी के रूप में कौन कार्य करता है ?
उत्तर लघु उद्योग मंत्रालय

प्रश्न .प्रौद्योगिकी उन्नयन हेतु ऋण आधारित पूंजी सब्सिडी योजना कब प्रारम्भ हुई ?
उत्तर अक्तूबर 2000 में आरंभ हुई औऱ 29. 09. 2005 से संशोधित हुई

प्रश्न भारत सर्वाधिक किसके आयात पर अधिक खर्चा करता है ?
उत्तर लोहा तथा इस्पात

प्रश्न औद्योगिक क्रांति सर्वप्रथम किस देश मे हुई थी ?
उत्तर इंग्लैंड

प्रश्न उद्योगिक वित्त उपलब्ध करने वाली प्रथम संस्था कौन सी है ?
उत्तर I.F.C.I

Categories

 

Recent Posts

error: Bhai Bahut Mehnat Lagi Hai. Padhna Free hain?