अशासकीय स्कूलों में अब होंगे भर्ती शिक्षक और कर्मचारी

अशासकीय स्कूलों की सभी समस्याओं को देखते हुए श्री गुरु राम राय इंटर कॉलेज सहसपुर के मुलाकात मुख्यमंत्री से की। उन्होंने अशासकीय स्कूलों में  बहुत समय से खाली पड़े शिक्षकों और कर्मचारियों के पदों भर्ती करने के साथ ही विद्यालयों में छात्र कल्याण योजनाओ की शरुआत करने की मांग भी मुख्यमंत्री को की।
मुख्यमंत्री ने  इन मांगों पर विचार किया और कार्रवाई करने के लिए शिक्षा सचिव को निर्देश दिया है। प्रधानाचार्य ने अशासकीय स्कूलों में प्रधानाचार्यों की नियुक्ति में डाउन ग्रेड व्यवस्था को समाप्त कर तदर्थ नियुक्ति पर 7600 रुपये ग्रेड देने और मानदेय से वंचित शिक्षकों को मानदेय की परिधि में लाने के लिए लगाई गई शर्तों को हटाने की मांग की। प्रधानाचार्य रविंद्र सैनी ने सहसपुर स्थित एसजीआरआर स्कूल को विज्ञान वर्ग की मान्यता प्रदान करने की भी मांग की।

अब अशासकीय मान्यता प्राप्त स्कूलों में शिक्षक और मिनिस्ट्रीयल स्टॉफ की भर्ती  का रास्ता खुल रहा है। पिछले साल से ही भर्तियों पर रोक लगी है।

सरकार ने अशासकीय स्कूलों में होने वाली भर्ती को रोकने के लिए काफी सख्त प्रावधान कर दिए हैं। वर्तमान में अशासकीय स्कूलों में प्रधानाचार्य से मिनिस्ट्रीयल कर्मी स्तर तक के 2275 पद रिक्त हैं। सरकार ने शिक्षा परिषद विनियम में कुछ महत्वपूर्ण बदलाव किये है जिसकी अधिसूचना जारी कर दी है।  इसमें सबसे बड़ा संशोधन इंटरव्यू के अंकों को लेकर हुआ है

पहले प्रबंध समिति के स्तर पर होने वाले इंटरव्यू में 25 अंक होते थे। उन्हें अब घटाकर पांच पर समेट दिया गया है। शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे ने कहा कि मानकों में संशोधन से अशासकीय स्कूलों में नियुक्ति प्रक्रिया में और पारदर्शिता आएगी और मेधावी अभ्यर्थियों को अधिक अवसर देने के लिए इंटरव्यू के अंक घटाए गए हैं और हर अभ्यर्थी को समय पर सूचना उपलब्ध कराने का सिस्टम भी काफी मजबूत बनाया गया है।

रिक्तियां अशासकीय स्कूलों में

श्रेणी                 पद        रिक्त 
प्रधानाचार्य        318       125
एलटी शिक्षक     3200     1500
प्रवक्ता शिक्षक    1900      500
लिपिक              800      150

389 Total Views 2 Views Today
Previous Post
Next Post

Posted by- Kamakshi Sharma


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.